Class 10 science Chapter 6 जैव प्रक्रम Notes in Hindi

10 Class Science Chapter 6 जैव प्रक्रम notes in hindi

TextbookNCERT
ClassClass 10
Subjectविज्ञान
Chapter Chapter 6
Chapter Nameजैव प्रक्रम
CategoryClass 10 Science Notes
MediumHindi

Class 10 science Chapter 6 जैव प्रक्रम notes in hindi जिसमे हम पौधों और जानवरों में पोषण, श्वसन, परिवहन और उत्सर्जन आदि के बारे में पड़ेंगे ।

Class 10 science Chapter 6 जैव प्रक्रम Notes in hindi

📚 Chapter = 6 📚
💠 जैव प्रक्रम💠

❇️ सजीव वस्तुएँ :-

🔹 वे सभी वस्तुएँ सजीव वस्तएँ कहलाती है , जिसमें पोषण , श्वसन , उत्सर्जन तथा वृद्धि जैसी क्रियाएँ होती है । जैसे :- जंतु और पौधे । 

❇️ निर्जीव वस्तुएँ :-

🔹 वे सभी वस्तुएँ निर्जीव वस्तुएँ कहलाती है , जिसमें जीवन के कोई भी आवश्यक कार्य संपन्न नहीं होता । जैसे :- चट्टान , मिट्टी , लकड़ी इत्यादि ।

❇️ सजीव और निर्जीव में अंतर :-

निर्जीवसजीव
ये पोषण नहीं करते है ।ये पोषण करते है । 
इनमें श्वसन नहीं होता है ।इनमें श्वसन होता है ।
ये जनन नहीं करते है । ये जनन करते है ।
इनमें वृद्धि नहीं होता है ।इनमें वृद्धि होता है । 
ये स्थान परिवर्तन नहीं करते है ।ये स्थान परिवर्तन करते है ।

नोट :- विषाणु सजीव और निर्जीव दोनों होता है । ये सजीव कोशिका को संक्रमित करता है तो सजीव होता है तथा खुले वातावरण में निर्जीव होता है ।

❇️ जैव प्रक्रम :-

🔹 वे सभी प्रक्रम जो संयुक्त रूप से जीव के अनुरक्षण का कार्य करते है , जैव प्रक्रम कहलाते हैं ।

❇️ जैव प्रक्रम में सम्मिलित प्रक्रियाएँ :-

  • पोषण 
  • श्वसन 
  • वहन 
  • उत्सर्जन

❇️ पोषण :-

🔹 भोजन ग्रहण करना , पचे भोजन का अवशोषण एवं शरीर द्वारा अनुरक्षण के लिए उसका उपयोग , पोषण कहलाता है । 

❇️ पोषण के प्रकार :-

🔹 पोषण के आधार पर जीवों को दो समूह में बाँटा जा सकता है ।

  • स्वपोषी पोषण 
  • विषमपोषी पोषण ( इसके तीन प्रकार होते हैं )
    • मृतजीवी पोषण जैसे :- कवक , बैक्टीरिया , प्रोटोजोआ
    • परजीवी पोषण जैसे :- गोलकृमि , मलेरिया परजीवी
    • प्राणिसम पोषण जैसे :- अमीबा , मेंढ़क , मनुष्य

❇️ स्वपोषी पोषण :-

🔹 पोषण का वह तरीका जिसमें जीव अपने आस – पास के वातावरण में उपस्थित सरल अजैव पदार्थों जैसे CO2 , पानी और सूर्य के प्रकाश से अपना भोजन स्वयं बनाता है । उदाहरण :- हरे पौधे ।

🔹 स्वपोषी पोषण हरे पौधों मे तथा कुछ जीवाणुओं जो प्रकाश संश्लेषण कर सकते हैं , में होता है ।

🔹 स्वपोषी जीव की कार्बन तथा ऊर्जा की आवश्यकताएँ प्रकाश संश्लेषण द्वारा पूरी होती हैं । 

❇️ प्रकाश संश्लेषण :-

🔹 यह वह प्रक्रम है जिसमें स्वपोषी बाहर से लिए पदार्थों को ऊर्जा संचित रूप में परिवर्तित कर देता है । ये पदार्थ कार्बन डाइऑक्साइड तथा जल के रूप में लिए जाते हैं , जो सूर्य के प्रकाश तथा क्लोरोफिल की उपस्थिति में कार्बोहाइड्रेट में परिवर्तित कर दिए जाते हैं ।

6CO₂ + 12H₂O = क्लोरोफिल/सूर्य का प्रकाश C₆H₁₂O₆ ( ग्लूकोज़ ) + 6O₂ + 6H₂O

❇️ प्रकाश संश्लेषण के लिए आवश्यक कच्ची सामग्री :-

  • सूर्य का प्रकाश 
  • क्लोरोफिल कार्बन डाइऑक्साइड – स्थलीय पौधे इसे वायुमण्डल से प्राप्त करते हैं । 
  • जल – स्थलीय पौधे , जड़ों द्वारा मिट्टी से जल का अवशोषण करते हैं ।

❇️ प्रकाश संश्लेषण के दौरान होती घटनाएं :-

  • क्लोरोफिल द्वारा प्रकाश ऊर्जा को अवशेषित करना । 
  • प्रकाश ऊर्जा को रासायनिक ऊर्जा में रूपांतरित करना तथा जल अणुओं का हाइड्रोजन तथा ऑक्सीजन में अपघटन । 
  • कार्बन डाईऑक्साइड का कार्बोहाइड्रेट में अपचयन ।

❇️ क्लोरोप्लास्ट :-

🔹 पत्तियों की कोशिकाओं में जो हरे रंग के बिंदु दिखाई देते हैं । ये हरे बिंदु कोशिकांग हैं जिन्हें क्लोरोप्लास्ट कहते हैं इनमें क्लोरोफिल होता है ।

❇️ रंध्र :-

🔹 पत्ती की सतह पर जो सूक्ष्म छिद्र होते हैं , उन्हें रंध्र कहते हैं । 

❇️ रंध्र के प्रमुख कार्य :-

  • प्रकाश संश्लेषण के लिए गैसों का अधिकांश आदान – प्रदान इन्हीं छिद्रों के द्वारा होता है । 
  • वाष्पोत्सर्जन प्रक्रिया में जल ( जल वाष्प के रूप में ) रंध्र द्वारा निकल जाता है ।

❇️ रंध्र की रचना और क्रिया :-

🔹 पत्तियों की सतह पर मौजूद रंध्रो को चारो ओर से दो कोशिकाएँ घेरे रहती है । जिन्हें द्वार कोशिका कहते है । ये कोशिकाएँ रंध्रो के खुलने या बंद होने के लिए उत्तरदायी है । 

🔹 जब द्वार कोशिकाओं में जल अंदर जाता है तब वह फूल जाती है जिससे छिद्र खुल जाता है । जब द्वार कोशिकाएँ सिकुड़ती हैं तब छिद्र बंद हो जाता है । रंध्र से पर्याप्त मात्रा में जल की हानी होती है ।

❇️ विषमपोषी पोषण :-

🔹 पोषण का वह तरीका जिसमें जीव अपना भोजन स्वयं नहीं बना सकता , बल्कि अपने भोजन के लिए अन्य जीवों पर निर्भर होता है । उदाहरण :- मानव व अन्य जीव ।

❇️ विषमपोषी पोषण के प्रकार :-

  • प्राणीसमपोषण
  • मृतजीवी पोषण
  • परजीवी पोषण

🔶 प्राणीसमपोषण :- इसमें जीव संपूर्ण भोज्य पदार्थ का अंतर्ग्रहण करते हैं तथा उनका पाचन शरीर के अंदर होता है । उदाहरण :- अमीबा , मानव ।

🔶 मृतजीवी पोषण :- मृतजीवी अपना भोजन मृतजीवों के शरीर व सड़े – गले कार्बनिक पदार्थों से प्राप्त करते हैं । उदाहरण :- फफूंदी , कवक । 

🔶 परजीवी पोषण :- परजीवी , अन्य जीवों के शरीर के अंदर या बाहर रहकर , उनको बिना मारे , उनसे अपना पोषण प्राप्त करते हैं । उदाहरण :- जोक , अमरबेल , जूँ , फीताकृमि ।

❇️ जीव अपना पोषण कैसे करते है :-

📌 एक कोशिकीय जीव :- एक कोशिकीय जीव अपना भोजन संपूर्ण सतह से ले सकते है । जैसे :- अमीबा , पैरामीशियम । 

❇️ अमीबा :-

  • एक कोशीय अनिश्चित आकार वाला प्राणिसमपोषी जीव है । 
  • कुटपादों द्वारा भोजन ग्रहण करता है ।
  • अमीबा के भोजन :- शैवाल के छोटे टुकड़े , बैक्टीरिया , डायटम अन्य जीव एवं मृत कार्बनिक पदार्थ । 

🔶 अमीबा में पोषण :-

🔹 अमीबा में पोषण तीन चरण में पूर्ण होते हैं :- 

  • अंतर्ग्रहण :- अमीबा कोशिकीय सतह से अँगुली जैसे अस्थायी प्रवर्ध की मदद से भोजन ग्रहण करता है । यह प्रवर्ध भोजन के कणों को घेर लेते हैं तथा संगलित होकर खाद्य रिक्तिका बनाते हैं । 
  • पाचन :- खाद्य रिक्तिका के अंदर जटिल पदार्थों का विघटन सरल पदार्थों में किया जाता है और वे कोशिकाद्रव्य में विसरित हो जाते हैं । 
  • बहिष्करण :- बचा हुआ अपच पदार्थ कोशिका की सतह की ओर गति करता है तथा शरीर से बाहर निष्कासित कर दिया जाता है ।

❇️ पैरामीशियम :-

🔹 पैरामीशियम भी एककोशिक जीव है , इसकी कोशिका का एक निश्चित आकार होता है तथा भोजन एक विशिष्ट स्थान से ही ग्रहण किया जाता है । भोजन इस स्थान तक पक्ष्याभ की गति द्वारा पहुँचता है जो कोशिका की पूरी सतह को ढके होते हैं ।

📌 बहु कोशिकीय जीव :- बहुकोशिकीय जीव में पोषण के लिए विभिन्न प्रकार के अंग तथा अंगतंत्र होता है । जैसे :- मानव

❇️ मनुष्य में पोषण :-

🔹 पोषण के चरण :- मुखगुहा अमाशय क्षुद्रांत्र / छोटी आत → बृहद्रां / बड़ी आत

🔶 मुखगुहा :- 

🔹 भोजन को मुखगुहा में दाँतों द्वारा छोटे छोटे टुकड़ो में तोड़ा जाता हैं , और लार ग्रंथी से निकलने वाला लार या लालारस भोजन से पेशीय जिहा द्वारा मिलाया जाता है जिससे भोजन आसानी से आहार नाल में क्रमाकुचक गति द्वारा गमन करता है । 

🔹 लार मे एक एंजाइम होता है जिसे लार एमिलेस या टायलिन कहते है । यह मंड को शर्करा में खंडित करता है । 

🔹 मनुष्य कि मुखगुहा में तीन जोड़ी लारग्रंथी होती है :- 

  • पैरोटिड ग्रंथी 
  • सबमैंडिबुलर लारग्रंथी 
  • सबलिंगुअल लारग्रंथी

🔶 अमाशय :-

🔹 मुहँ से आमाशय तक भोजन ग्रसिका या इसोफेगस द्वारा क्रमाकुंचक गति द्वारा ले जाया जाता है । आमाशय की पेशीय भित्ति भोजन को अन्य पाचक रसों के साथ मिश्रित करने मे सहायता करती है । अमाशय के भित्ति में उपस्थित जठर ग्रंथि जो हाइड्रोक्लोरिक अम्ल ( HCL ) , प्रोटीन पाचक एंजाइम पेप्सिन तथा श्लेमा का स्रावण करती है ।

🔹 जठर रसों या पाचक एंजाइम के कार्य :-

  • हाइड्रोक्लोरिक अम्ल ( HCL ) :- यह एक अम्लीय माध्यम तैयार करता है जो निष्क्रिय पेप्सिनोजेन को सक्रिय पेप्सिन में बदलने का काम करता है । साथ ही HCL जीवाणुनाशक की तरह काम करता है , भोजन में आनेवाले बैक्टीरिया को नष्ट करता है । 
  • पेप्सिन एंजाइम :- पेप्सिन प्रोटीन को पचाने का कार्य करता हैं । 
  • श्लेष्मा या म्यूकस :- म्यूकस आमाशय की दीवार तथा जठर ग्रंथियों को हाइड्रोक्लोरिक अम्ल ( HCL ) तथा एंजाइम पेप्सिन से सुरक्षित रखता है ।

नोट :- मनुष्य के आमाशय में प्रतिदिन ३ लीटर जठर रस का स्त्राव होता है । आमाशय में प्रोटीन के साथ – साथ वासा का आंशिक पाचन एंजाइम गैस्ट्रिक लाइपेज के द्वारा होता है । 

🔶 क्षुद्रांत्र / छोटी आँत :- 

🔹 आमाशय से भोजन क्षुद्रांत्र में प्रवेश करता है यह अवरोधिनी पेशी द्वारा नियंत्रित होता है । यहाॅ कार्बोहाइड्रेट , प्रोटीन , तथा वसा के पूर्ण पाचन का स्थल होता है । 

🔹 यहाँ आमाशय से आने वाला भोजन अम्लीय होता है जिसको अग्न्याशयिक एंजाइम के क्रिया के लिए क्षारीय माध्यम यकृत से स्रावित पित्तरस द्वारा किया जाता है ।

🔹 वसा आँत में बड़ी गोलिकाओं के रूप में होता है जिसपर एंजाइम का कार्य मुश्किल होता है , एंजाइम के क्रियाशिलता को बढ़ाने के लिए पित्त लवण उसे छोटे गोलिकाओं में खण्डित कर देता है जिससे एंजाइम की क्रियाशीलता बढ़ जाती है । इस क्रिया को इमल्सीकरण कहते है ।

  • अग्न्याशयिक रस के कार्य :- अग्न्याशय अग्न्याशयिक रस का स्रावण करता है जिसमें प्रोटीन पाचन के लिए ट्रिप्सिन एंजाइम तथा इमल्सीकृत वासा के पाचन के लिए लाइपेज एंजाइम होता है । 
  • आंत्र रस के कार्य :- क्षुद्रात्र ग्रंथियों द्वारा आंत्र रस स्रावित होती है जिसमें उपस्थित एंजाइम अंत में प्रटीन को अमिनो अम्ल , जटिल कार्बोहाइड्रेट को ग्लुकोज में तथा वसा को वसा अम्ल तथा ग्लिसरॉल में परिवर्तित कर देता है । 
  • क्षुद्रांत्र / छोटी आँत की संरचना :- पाचित भोजन को आंत की भित्ति अवशोषित कर लेती है । क्षुद्रांत्र के आंतरिक आस्तर पर अनेक अँगुली जैसे प्रवर्ध होते हैं जिन्हें दीर्घरोम कहते हैं ये अवशोषण का सतही क्षेत्रफल बढ़ा देते हैं । दीर्घरोम में रुधिर वाहिकाओं की जाल होती है । जो भोजन को अवशोषित करके शरीर की प्रत्येक कोशिका तक पहुँचाते हैं । यहाँ इसका उपयोग ऊर्जा प्राप्त करने , नए ऊतकों के निर्माण और पुराने ऊतकों की मरम्मत में होता है । 

🔶 बृहदांत्रा या बड़ी आँत :- 

🔹 बिना पचा भोजन बृहदांत्रा में भेज दिया जाता है जहाँ अधिक संख्या में दीर्घरोम इस पदार्थ में से जल का अवशोषण कर लेते हैं । अन्य पदार्थ गुदा द्वारा शरीर के बाहर कर दिया जाता है । इस वर्ज्य पदार्थ का बहिःक्षेपण गुदा अवरोधिनी द्वारा नियंत्रित किया जाता है ।

❇️ मनुष्य के दाँतों के प्रकार :-

🔹 एक व्यस्क मनुष्य के मुखगुहा में कुल 32 दाँत होते है । 

🔹 दाँत चार प्रकार के होते है :- 

  • कर्तनक या इनसाइजर , 
  • भेदक या कैनाइन , 
  • अग्रचर्वणक या प्रीमोलर , 
  • चर्वणक या मोलर ।

❇️ दंतक्षरण :-

🔹 मुख में कार्बोहाइड्रेट का पाचन लार द्वारा शर्करा में होता है , जिसपर जिवाणु क्रिया करके अम्ल बनाते है । जिससे इनैमल का मृदुकरण होता है । अनेक जिवाणु खाद्यकणों के साथ मिलकर दाँतों पर चिपककर दंत प्लाक बनाते है जो दाँत को ढँक लेता है । इसे ब्रस द्वारा नहीं हटाया गया तो वे मज्जा में पहुचकर जलन पैदा करते है । इस प्रकार दंतक्षरण शुरू होता है ।

❇️ श्वसन :-

🔹 पोषण प्रक्रम के दौरान ग्रहण की गई खाद्य सामग्री का उपयोग कोशिकाओं में होता हैं जिससे विभिन्न जैव प्रक्रमों के लिए ऊर्जा प्राप्त होती है । ऊर्जा उत्पादन के लिए कोशिकाओं में भोजन के विखंडन को कोशिकीय श्वसन कहते हैं ।

❇️ श्वसन के प्रकार :-

🔹 श्वसन दो प्रकार के होते है :- 

  • वायवीय श्वसन 
  • अवायवीय श्वसन 

🔶 वायवीय श्वसन :-  कोशिका के कोशिका द्रव्य में मौजूद कोशिकांग माइटोकॉण्ड्रिया में पायरूवेट का विखण्डन ऑक्सीजन के उपस्थिति में होता है । इस अभिक्रिया को वायवीय श्वसन कहते है । परिणाम स्वरूप जल , CO2 और उर्जा की प्राप्ती होती है । ऊर्जा ATP में संचित हो जाती है । वायवीय श्वसन में अधिक ऊर्जा उत्पन्न होता है ।

🔶 अवायवीय श्वसन :- कोशिका के कोशिका द्रव्य में ग्लूकोज का आंशिक विखण्डन ऑक्सीजन के अनुपस्थिति में एंजाइम की मदद से होता है । इसे ही अवायविय श्वसन कहते है । परिणाम स्वरूप इथेनॉल , लैक्टिक अम्ल तथा CO2 का निर्माण होता है । इसमें आंशिक उर्जा की प्राप्ति होती है तथा CO2 के दो अणु बनते है ।

❇️ वायवीय श्वसन एवं अवायवी श्वसन में अंतर :-

वायवीय श्वसन अवायवी श्वसन 
ऑक्सीजन की उपस्थिति में होता है । ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में होता है । 
ग्लूकोज का पूर्ण उपचयन होता है कार्बनडाइऑक्साइड , पानी और ऊर्जा मुक्त होती है । ग्लूकोज का अपूर्ण उपचयन होता है , जिसमें एथेनॉल , लैक्टिक अम्ल , कार्बन डाइऑक्साइड और ऊर्जा मुक्त होती है । 
यह कोशिका द्रव्य व माइटोकान्ड्रिया में होता है । यह केवल कोशिका द्रव्य में होता है । 
अधिक ऊर्जा उत्पन्न होती है । ( 36ATP ) कम ऊर्जा उत्पन्न होती है । ( 2ATP )
उदारहण :- मानवउदाहरण :- यीस्ट

नोट :- कोशिकीय श्वसन द्वारा निकली ऊर्जा ATP के रूप में संचित हो जाती है , जिसे कोशिका ईंधन के रूप उपयोग होता है । 

ATP :- एडिनोसीन ट्राई फास्फेट । 

कोशिकीय श्वसन आंतरोष्मि या उष्माक्षेपी अभिक्रिया है ।

❇️ पौधों में रात्रि तथा दिन में निम्न घटनाएँ होती हैं :-

🔶 रात्रि में :- प्रकाशसंश्लेषण नहीं होता है जिसके कारण कार्बनडाइऑक्साइड का निष्कासन मुख्य घटना है । 

🔶 दिन में :- श्वसन के दौरान निकली CO2 प्रकाशसंश्लेषण में प्रयुक्त हो जाती है , जिससे केवल ऑक्सिजन का निकलना मुख्य घटना है ।

❇️ जलीय जीवों में श्वसन :-

🔹 जलीय जीव जल में विलेय ऑक्सिजन का उपयोग करते है । जल में ऑक्सिजन की मात्रा कम होने के कारण इनकी श्वास दर स्थलीय जीव के अपेक्षा कम होती है । 

🔹 जैसे :- मछली अपने मुँह द्वारा जल लेकर , उसे बलपूर्वक क्लोम तक पहुँचाती है जहाँ विलेय ऑक्सिजन रूधिर ले लेता है । 

❇️ कुछ जीवों के श्वसन अंग :-

जीवों के नामश्वसन अंग
मछली गलफड़ या गिल्स
मच्छर श्वासनली या ट्रैकिया
केंचुआ त्वचा
मनुष्यफेफड़ा

❇️ मानव श्वसन तंत्र :-

🔹 नासाद्वार → ग्रसनी → कंठ → श्वास नली → श्वसनी  → श्वसनिका → फुफ्फुस ( फेफड़े ) → कूपिका कोश → रुधिर वाहिकाएं

❇️ मानव श्वसन तंत्र की क्रियाविधि :-

  • मनुष्य के शरीर के अंदर वायु नासाद्वार द्वारा जाती है । 
  • नाक में उपस्थित महीन बाल व श्लेष्मा वायु के साथ अंदर जाने वाली अशुद्धियों को रोक लेते हैं । यह अशुद्धियाँ परागकण , धूल मिट्टी , जीवाणु राख आदि हो सकती हैं । 
  • नासाद्वार से अंदर आ चुकी वायु ग्रसनी व कंठ से होते हुए श्वास नली में प्रवेश करती है । 

🔶 ग्रसनी :- ह श्वसन व पाचन तंत्र के लिए समान मार्ग है । 

🔶 कंठ या स्वर यंत्र :- यह श्वास नली के ऊपर व ग्रसिका के सामने उपस्थित एक नली है , जिसकी लंबाई वयस्कों में लगभग 5 cm होती है ।

  • कंठ में उपास्थि के वलय उपस्थित होते हैं । यह सुनिश्चित करता है कि वायु मार्ग निपतित न हो ।
  • श्वास नली से होकर वायु श्वसनी के माध्यम से फुफ्फुस में प्रवेश करती हैं । 
  • फुफ्फुस के अंदर मार्ग छोटी और छोटी नलिकाओं में विभाजित हो जाता है जो अंत में गुब्बारे जैसी रचना में अंतकृत हो जाता है जिसे कूपिका कहते हैं । 
  • कूपिका एक सतह उपलब्ध कराती है जिससे गैसों का विनिमय हो सकता है । कृपिकाओं की भित्ति में रुधिर वाहिकाओं का विस्तीर्ण जाल होता है ।
  • जब हम श्वास अंदर लेते हैं , हमारी पसलियाँ ऊपर उठती हैं और हमारा डायाफ्राम चपटा हो जाता है , इसके परिणामस्वरूप वक्षगुहिका बड़ी हो जाती है । 
  • इस कारण वायु फुफ्फुस के अंदर चूस ली जाती है और विस्तृत कूपिकाओं को भर लेती है । 
  • रुधिर शेष शरीर से कार्बन डाइऑक्साइड कूपिकाओं में छोड़ने के लिए लाता है । कूपिका रुधिर वाहिका का रुधिर कूपिका वायु से ऑक्सीजन लेकर शरीर की सभी कोशिकाओं तक पहुँचाता है ।

❇️ मानव श्वसन क्रिया :-

अंतः श्वसन 
अंतः श्वसन के दौरान :- 
उच्छवसन 
वृक्षीय गुहा फैलती है ।वृक्षीय गुहा अपने मूल आकार में वापिस आ जाती है । 
पसलियों से संलग्न पेशियां सिकुड़ती हैं ।पसलियों की पेशियां शिथिल हो जाती हैं । 
वक्ष ऊपर और बाहर की ओर गति करता है ।वक्ष अपने स्थान पर वापस आ जाता है । 
गुहा में वायु का दाब कम हो जाता है और वायु फेफड़ों में भरती है ।गुहा में वायु का दाब बढ़ जाता है और वायु ( कार्बन डाइऑक्साइड ) फेफड़ों से बाहर हो जाती है ।

❇️ संवहन :-

🔹 मनुष्य में भोजन , ऑक्सीजन व अन्य आवश्यक पदार्थों की निरंतर आपूर्ति करने वाला तंत्र , संवहन तंत्र कहलाता है ।

❇️ मानव में वहन :-

🔹 मानव संवहन तंत्र के मुख्य अवयव :-

  • हृदय
  • रक्त नलिकाएं ( धमनी व शिरा ) 
  • वहन माध्यम ( रक्त व लसीका )

📌 हमारा पंप – हृदय :-

  • हृदय एक पेशीय अंग है जो हमारी मुट्ठी के आकार का होता है । 
  • ऑक्सीजन प्रचुर रुधिर को कार्बन डाइऑक्साइड युक्त रुधिर से मिलने को रोकने के लिए हृदय कई कोष्ठों में बँटा होता है । 
  • हृदय का दायाँ व बायाँ बँटवारा ऑक्सीजनित तथा विऑक्सीजनित रुधिर को मिलने से रोकने में लाभदायक होता है ।
  • मानव हृदय एक पम्प की तरह होता है जो सारे शरीर में रुधिर का परिसंचरण करता है ।
  • हृदय में उपस्थित वाल्व रुधिर प्रवाह को उल्टी दिशा में रोकना सुनिश्चित करते हैं ।

🔶 रक्तदाब :- रुधिर वाहिकाओं की भित्ति के विरुद्ध जो दाब लगता है उसे रक्तदाब कहते हैं ।

📌 रक्त नलिकाएं :-

  • धमनी 
  • शिरा

🔶 धमनी :-

  • धमनी वे रुधिर वाहिकाएँ हैं जो रुधिर को हृदय से शरीर के विभिन्न अंगों तक ले जाती हैं । 
  • धमनी की भित्ति मोटी तथा लचीली होती है क्योंकि रुधिर हृदय से उच्च दाब से निकलता है ।
  • वाल्व नहीं होते । 
  • ये सतही नहीं होती , उत्तकों के नीचे पाई जाती हैं ।

🔶 शिरा :-

  • शिराएं विभिन्न अंगों से अनॉक्सीकृत रुधिर एकत्र करके वापस हृदय में लाती हैं । अपवाद फुफ्फुस – शिरा 
  • शिरा की भित्ति कम मोटी व कम लचीली होती है । 
  • वाल्व होते हैं ।
  • ये सतही होती हैं ।

📌 लसीका :-

🔹 एक तरल उत्तक है , जो रुधिर प्लाज्मा की तरह ही है ; लेकिन इसमें अल्पमात्रा में मोटीन होते हैं । लसीका वहन में सहायता करता है ।

❇️ पादपों में परिवहन :-

🔹 पादप तंत्र का एक अवयव है , जो मृदा से प्राप्त जल और खनिज लवणों का वहन करता है जबकि फ्लोएम पत्तियों द्वारा प्रकाश संश्लेषित उत्पादों को पौधे के अन्य भागों तक वहन करता है । 

🔹 जड़ व मृदा के मध्य आयन साद्रण में अंतर के चलते जल मृदा से जड़ों में प्रवेश कर जाता है तथा इसी के साथ एक जल स्तंभ निर्माण हो जाता है , जो कि जल को लगातार ऊपर की ओर धकेलता है ।

🔹 यही दाब जल को ऊँचे वृक्ष के विभिन्न भागों तक पहुचाता है । यही जल पादप के वायवीय भागों द्वारा वाष्प के रूप में वातावरण में विलीन हो जाता है , यह प्रकम वाष्पोत्सर्जन कहलाता है । इस प्रकम द्वारा पौधों को जल के अवशोषण एवं जड़ से पत्तियों तक जल तथा विलेय खनिज लवणों के उपरिमुखी गति में तथा पौधों में ताप नियमन में सहायता मिलती है ।

❇️ पौधों में भोजन तथा दूसरे पदार्थों का स्थानांतरण :-

  • प्रकाश संश्लेषण के विलेय उत्पादों का वहन स्थानांतरण कहलाता है जो कि फ्लोएम ऊतक द्वारा होता है । 
  • स्थानांतरण पत्तियों से पौधों के शेष भागों में उपरिमुखी तथा अधोमुखी दोनों दिशाओं में होता है । 
  • फ्लोएम द्वारा स्थानातरण ऊर्जा के प्रयोग से पूरा होता है । 
  • अतः सुक्रोज फ्लोएम ऊतक में ए.टी.पी. ऊर्जा से परासरण बल द्वारा स्थानांतरित होता है ।

❇️ उत्सर्जन :-

🔹 वह जैव प्रकम जिसमें जीवों में उपापचयी क्रियाओं में जनित हानिकारक नाइट्रोजन युक्त पदार्थों का निष्कासन होता है , उत्सर्जन कहलाता है । 

🔹 एक कोशिकीय जीव इन अपशिष्ट पदार्थों को शरीर की सतह से जल में विसरित कर देते हैं ।

❇️ मानव में उत्सर्जन :-

🔹 मानव के उत्सर्जन तंत्र में एक जोड़ा वृक्क , एक मूत्रवाहिनी , एक मूत्राशय तथा एक मूत्रमार्ग होता है । वृक्क उदर में रीढ़ की हड्डी के दोनों ओर स्थित होते हैं । वृक्क में मूत्र बनने के बाद मूत्रवाहिनी में होता हुआ मूत्राशय में आ जाता है तथा यहाँ तब तक एकत्र रहता है जब तक मूत्रमार्ग से यह निकल नहीं जाता है ।

❇️ मूत्र बनने का उद्देश्य :-

🔹 मूत्र बनने का उद्देश्य रुधिर में से वर्ज्य ( हानिकारक अपशिष्ट ) पदार्थों को छानकर बाहर करना है ।

❇️ वृक्क में मूत्र निर्माण प्रक्रिया :-

🔹 वृक्क की संरचनात्मक व क्रियात्मक इकाई वृक्काणु कहलाती है ।

🔹 वृक्काणु के मुख्य भाग इस प्रकार हैं । 

  • केशिका गुच्छ ( ग्लोमेरुलस ) :- यह पतली भित्ति वाला रुधिर कोशिकाओं का गुच्छा होता है । 
  • बोमन संपुट 
  • नलिकाकार भाग 
  • संग्राहक वाहिनी 

❇️ वृक्क में उत्सर्जन की क्रियाविधि :-

🔶 केशिका गुच्छ निस्यंदन :- जब वृक्क – धमनी की शाखा वृक्काणु में प्रवेश करती है , तब जल , लवण , ग्लूकोज , अमीनों अम्ल व अन्य नाइट्रोजनी अपशिष्ट पदार्थ , कोशिका गुच्छ में से छनकर वोमन संपुट में आ जाते हैं । 

🔶 वर्णात्मक पुन :- अवशोषण :- वृक्काणु के नलिकाकार भाग में , शरीर के लिए उपयोगी पदार्थों , जैसे ग्लूकोज , अमीनो अम्ल , लवण व जल का पुनः अवशोषण होता है । 

🔶 नलिका स्रावण :- यूरिया , अतिरिक्त जल व लवण जैसे उत्सर्जी पदार्थ वृक्काणु के नलिकाकार भाग के अंतिम सिरे में रह जाते हैं व मूत्र का निर्माण करते हैं । वहां से मूत्र संग्राहक वाहिनी व मूत्रवाहिनी से होता हुआ मूत्राशय में अस्थायी रूप से संग्रहित रहता है तथा मूत्राशय के दाब द्वारा मूत्रमार्ग से बाहर निकलता है ।

❇️ कृत्रिम वृक्क ( अपोहन ) :-

🔹 यह एक ऐसी युक्ति है जिसके द्वारा रोगियों के रुधिर में से कृत्रिम वृक्क की मदद से नाइट्रोजन युक्त अपशिष्ट पदार्थों का निष्कासन किया जाता है ।

🔹 प्राय : एक स्वस्थ व्यस्क में प्रतिदिन 180 लीटर आरंभिक निस्यंदन वृक्क में होता है । जिसमें से उत्सर्जित मूत्र का आयतन 1.2 लीटर है । शेष निस्यंदन वृक्कनलिकाओं में पुनअवशोषित हो जाता है । 

❇️ पादप में उत्सर्जन :-

  • वाष्पोत्सर्जन प्रक्रिया द्वारा पादप अतिरिक्त जल से छुटकारा पाते हैं । 
  • बहुत से पादप अपशिष्ट पदार्थ कोशिकीय रिक्तिका में संचित रहते हैं । 
  • अन्य अपशिष्ट पदार्थ ( उत्पाद ) रेजिन तथा गोंद के रूप में पुराने जाइलम में संचित रहते हैं । 
  • पादप कुछ अपशिष्ट पदार्थों को अपने आसपास मृदा में उत्सर्जित करते हैं ।
Legal Notice
 This is copyrighted content of INNOVATIVE GYAN and meant for Students and individual use only. Mass distribution in any format is strictly prohibited. We are serving Legal Notices and asking for compensation to App, Website, Video, Google Drive, YouTube, Facebook, Telegram Channels etc distributing this content without our permission. If you find similar content anywhere else, mail us at contact@innovativegyan.com. We will take strict legal action against them.

Class 9 Notes

Class 10 Notes

Class 11 Notes

Class 12 Notes